Home News Contact About
'अंजोर ' छत्तीसगढ़ी मासिक पत्रिका वेब संस्करण ---- anjore.cg@gmail.com

हीरालाल काव्योपाध्याय

पुरखा के सुरता : छत्तीसगढ़ी व्याकरण के सर्जक हीरालाल 'काव्योपाध्याय'

जनम अउ देहावसान के तिथि सुरता नइये ते पायके आज 11 सितंबर के खास दिन म उनला सुमिरन करथन।

महान बंगाली संगीतज्ञ अउ बंगाल संगीत अकादमी के संस्थापक राजा सुरेन्द्र मोहन टैगोर कोति ले 11 सितंबर 1884 के छत्तीसगढ़ी व्याकरण के सर्जक हीरालाल चंद्रनाहू ल काव्योपाध्याय उपाधि अउ सोन के बाजूबंद ले सम्मानित करे गे रिहिसे।

हीरालाल काव्योपाध्याय (1856-1890) Hiralal Kavyopadhyay (1856-1890)



Hiralal Kavyopadhyay 


अऊ पढ़व हीरालाल काव्योमपाध्याय जी के बारे म  ... 

कोई टिप्पणी नहीं:

टिप्पणी पोस्ट करें

जोहार पहुना, मया राखे रहिबे...

किस्सा कहिनी

Contact Us

नाम

ईमेल *

संदेश *

कला-संस्कृति-साहित्य

follow us

T-Twitter | F-Facebook | Y-Youtube | Instagram | Pinterest
महतारी भाखा के उरउती खातिर भारत के समाचार पत्र के पंजीयक कार्यालय नई दिल्ली म पंजीकृत ' अंजोर ' छत्तीसगढ़ी मासिक पत्रिका के anjor.online वेब संस्करण म छत्तीसगढ़ी बुलेटिन, किस्सा-कहानी अउ कला-मनोरंजन संग सोशल मीडिया के चारी, कुछ आन भाखा के अनुवाद समोखे, छत्तीसगढ़ के जन भाखा म जन-जन तक बगराथन। जुड़व ये उदीम - anjore.cg@gmail.com

सियानी गोठ

भारत के समाचारपत्रों के पंजीयक का कार्यालय नई दिल्ली
पंजीकरण संख्या-: CHHCHH/2014/56285