Home News Contact About
'अंजोर ' छत्तीसगढ़ी मासिक पत्रिका वेब संस्करण ---- anjore.cg@gmail.com

व्याकरणाचार्य हीरालाल काव्योपाध्याय ल सोरियावत मुख्यमंत्री श्री बघेल छत्तीसगढ़ी ल 8वीं अनुसूची म सामिल कराये खातिर पीएम ल लिखिस चिट्ठी

रायपुर.15। मुख्यमंत्री श्री भूपेश बघेल ह छत्तीसगढ़ी भासा ल प्राथमिकता ले आठवीं अनुसूची म शामिल कराये खातिर प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी ल चिट्ठी लिखे हावय। श्री बघेल ह श्री मोदी ले आग्रह करे हावय के भारतीय गणतंत्र के 26 वां राज्य छत्तीसगढ़ के गठन के ये बीसवां बछर आय, फेर सांस्कृतिक दृष्टि ले राज्य के अलग पहचान के इतिहास अऊ गजब जुन्ना हावय। छत्तीसगढ़ राज्य के भासा छत्तीसगढ़ी के तको इतिहास हावय अउ ये विशेष उल्लेखनीय हावय के छत्तीसगढ़ी के व्याकरण हीरालाल काव्योपाध्याय ह तैयार करे रिहिसे, जेकर संपादन अउ अनुवाद प्रसिद्ध भाषाशास्त्री जार्ज ए. ग्रियर्सन ह करे रिहिसे, जेन सन 1890 म जर्नल ऑफ द एशियाटिक सोसायटी ऑफ बंगाल म प्रकाशित होइसे। अऊ छत्तीसगढ़ के विपुल अउ स्तरीय साहित्य उपलब्ध हावय जेमा सरलग बढ़वार होवत हाबे। 

छत्तीसगढ़ म छत्तीसगढ़ी के उपबोली अउ कुछ आन भाखा तको प्रचलन म हावय फेर राज्य के बहुसंख्या जनता के भासा अउ अन्य क्षेत्रीय बोली संग संपर्क भासा छत्तीसगढ़ी ही हावय। राज्य म राजकीय प्रयोजन खातिर प्रयुक्त होवइया भासा के रूप म हिन्दी के अतिरिक्त छत्तीसगढ़ी ल अंगीकार करे गे हावय। राज्य म प्रतिवर्ष 28 नवम्बर के छत्तीसगढ़ी राजभासा दिवस मनाये जाथे। जनभावना अउ आवश्यकता के अनुरूप राज्य के विचार के परम्परा अउ राज्य के समग्र भाषायी विविधता के परिरक्षण, प्रचलन अउ विकास आदि खातिर छत्तीसगढ़ राजभासा आयोग के गठन करे गे हावय।

छत्तीसगढ़ी ल आठवीं अनुसूची म शामिल करे के संबंध म केन्द्र शासन ल अवगत कराये जात हावय के छत्तीसगढ़ी सहित देश के आन भासा ल आठवीं अनुसूची म शामिल कराना विचाराधीन हावय। इही परिप्रेक्ष्य म छत्तीसगढ़ राज्य के पौने तीन करोड़ जनता के भावना के अनुरूप आप से अनुरोध हावय के छत्तीसगढ़ी के भासा समृद्धि अउ जनभावना ल धियान म राखत छत्तीसगढ़ी ल प्राथमिकता ले आठवीं अनुसूची म शामिल करना आवश्यक हावय। कृपया येमा विचार करके राज्य के जनता के भावना के अनुरूप त्वरित अउ सकारात्मक निर्णय लेंवय।

हीरालाल काव्योपाध्याय



कोई टिप्पणी नहीं:

टिप्पणी पोस्ट करें

जोहार पहुना, मया राखे रहिबे...

किस्सा कहिनी

Contact Us

नाम

ईमेल *

संदेश *

कला-संस्कृति-साहित्य

follow us

T-Twitter | F-Facebook | Y-Youtube | Instagram | Pinterest
महतारी भाखा के उरउती खातिर भारत के समाचार पत्र के पंजीयक कार्यालय नई दिल्ली म पंजीकृत ' अंजोर ' छत्तीसगढ़ी मासिक पत्रिका के anjor.online वेब संस्करण म छत्तीसगढ़ी बुलेटिन, किस्सा-कहानी अउ कला-मनोरंजन संग सोशल मीडिया के चारी, कुछ आन भाखा के अनुवाद समोखे, छत्तीसगढ़ के जन भाखा म जन-जन तक बगराथन। जुड़व ये उदीम - anjore.cg@gmail.com

सियानी गोठ

भारत के समाचारपत्रों के पंजीयक का कार्यालय नई दिल्ली
पंजीकरण संख्या-: CHHCHH/2014/56285