Home News Contact About
'अंजोर ' छत्तीसगढ़ी मासिक पत्रिका वेब संस्करण ---- anjore.cg@gmail.com

महेतरु मधुकर के छत्तीसगढ़ी कविता : केवल कर परयास रे

का कमी हे जग म तोला,
जऊन होथस तयं निरास रे।
        सकल साधन साध्य हे तोला,
        केवल कर परयास रे...
माटी ह सोना उपजाही,
बादर ए मोती बरसाही।
मेहनत ले करले मितानी,
सुरुज सफलता बगराही।।
        तयं डर झन संगवारी हार के,
        मत मन ल कर न उदास रे...
बुलंद कर तयं अपन हऊसला,
पुरा होही तोर हर एक सपना।
नित  डटे रह  लक्ष के डगर म,
खुशी झुमत आही तोर अंगना।।
        गौरव गान तो ओखरे होथे जी,
        जऊन होवय नही हतास रे...
सुख-दुख तो आथे-जाथे,
हर मुसकुल ह दूर हट जाथे।
मंजिल के डगर कांटा ले भरे,
दिरिन निसचयी ही चल पाथे।।
        सपना सकार तो ओखरे होथे,
        अटूट लगन हे जेखर पास रे...

रचनाकार- 
महेतरु मधुकर
पता- पचपेड़ी, मस्तूरी, बिलासपुर छ.ग.

1 टिप्पणी:

जोहार पहुना, मया राखे रहिबे...

किस्सा कहिनी

Contact Us

नाम

ईमेल *

संदेश *

कला-संस्कृति-साहित्य

follow us

T-Twitter | F-Facebook | Y-Youtube | Instagram | Pinterest
महतारी भाखा के उरउती खातिर भारत के समाचार पत्र के पंजीयक कार्यालय नई दिल्ली म पंजीकृत ' अंजोर ' छत्तीसगढ़ी मासिक पत्रिका के anjor.online वेब संस्करण म छत्तीसगढ़ी बुलेटिन, किस्सा-कहानी अउ कला-मनोरंजन संग सोशल मीडिया के चारी, कुछ आन भाखा के अनुवाद समोखे, छत्तीसगढ़ के जन भाखा म जन-जन तक बगराथन। जुड़व ये उदीम - anjore.cg@gmail.com

सियानी गोठ

भारत के समाचारपत्रों के पंजीयक का कार्यालय नई दिल्ली
पंजीकरण संख्या-: CHHCHH/2014/56285