Home News Contact About
'अंजोर ' छत्तीसगढ़ी मासिक पत्रिका वेब संस्करण ---- anjore.cg@gmail.com

राजेश कुमार निषाद के छत्तीसगढ़ी कविता : गरमी के दिन


सुनले सूरज हे भगवान, काबर करथस तैं हलकान।
आथव बड़े बिहनिया आप, बड़गे हावय अड़बड़ ताप। 

आगी जइसन करथस घाम, उसना जावत तन के चाम। 
होगे होही कोनो पाप, करबोन देवा तोरो जाप।।

गरमी के दिन जब जब आय, तरिया नदियाँ सबो अटाय।
गरमी ले हे सब थर्राय, कूलर पंखा काम न आय।।

भुइयाँ मा चट जरथे पाँव, तन हा खोजत रहिथे छाँव।।
घेरी बेरी गला सुखाय, अबड़ पछीना हा चुचवाय।।    

ज्ञानी मनखे ज्ञान सुझाय,नेकी के वो बात बताय।
पेड़ लगा के करो उपाय,जेकर से सब राहत पाय।।    
   
बरसा के जल सबो बचाव, तरिया डबरी बाँध बनाव।।
बंद करव प्लास्टिक उपयोग, तभे दूर ये होही रोग।।


रचनाकार-
राजेश कुमार निषाद, 
ग्राम - चपरीद,  रायपुर छत्तीसगढ़

No comments:

Post a Comment

जोहार पहुना, मया राखे रहिबे...

किस्सा कहिनी

Contact Us

Name

Email *

Message *

कला-संस्कृति-साहित्य

follow us

T-Twitter | F-Facebook | Y-Youtube | Instagram | Pinterest
महतारी भाखा के उरउती खातिर भारत के समाचार पत्र के पंजीयक कार्यालय नई दिल्ली म पंजीकृत ' अंजोर ' छत्तीसगढ़ी मासिक पत्रिका के anjor.online वेब संस्करण म छत्तीसगढ़ी बुलेटिन, किस्सा-कहानी अउ कला-मनोरंजन संग सोशल मीडिया के चारी, कुछ आन भाखा के अनुवाद समोखे, छत्तीसगढ़ के जन भाखा म जन-जन तक बगराथन। जुड़व ये उदीम - anjore.cg@gmail.com

सियानी गोठ