Home News Contact About

विज्ञापन खातिर आरो करव-

jayantsahu9@gmail.com
'अंजोर ' छत्तीसगढ़ी मासिक पत्रिका वेब संस्करण ---- anjore.cg@gmail.com

Hindu Marriage Act : पहिली बिहाव ल बिगर बताये दूसर बिहाव करे म 10 साल के कारावास अउ जुर्माना के दण्ड

Hindu Marriage Act
Hindu Marriage Act

अम्बिकापुर। जिला विधिक सेवा प्राधिकरण के अध्यक्ष आर.बी घोरे के मार्गदर्शन म प्राधिकरण के सचिव अमित जिंदल ह विधि पढ़इया लइका ल हिन्दू बिहाव अधिनियम 1955 के जानकारी दीस। ओमन जानकारी देत बताइन के कोनो तको मनखे पहिली बिहाव छिपाके दूसर विवाह करे म भारतीय दण्ड संहिता के धारा 495 के तहत 10 साल तक के कारावास  अउ जुर्माना ले दण्डनीय होही।

जिंदल ह बताइन के पहिली पत्नी के रहत आन पति या पत्नी ले बिहाव करे हिन्दू बिहाव अधिनियम 1955 के धारा 5 के तहत शून्य होके धारा 17 के मुताबिक भारतीय दण्ड संहिता के धारा 494, 495 के तहत दण्डनीय होही। दूसर विवाह करे म भारतीय दण्ड संहिता के धारा 494 के तहत 7 साल तक के कारावास अउ जुर्माना ले दण्डनीय होही। श्री जिंदल ह पढ़इया लइका ल धारा 493, 498 भारतीय दण्ड संहिता, दण्ड प्रक्रिया संहिता के धारा 198, हिन्दू बिहाव अधिनियम, हिन्दू अप्राप्तव्य अउ संरक्षता अधिनियम 1956 के तको विस्तार ले जानकारी दीस।

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

जोहार पहुना, मया राखे रहिबे...

किस्सा कहिनी

सियानी गोठ

स्‍वामी/ प्रकाशक/ मुद्रक – जयंत साहू
संपादकीय कार्यालय – डूण्डा, सेजबहार रायपुर, छत्‍तीसगढ़ 492015
सिटी कार्यालय - प्रकाश मोबाईल सेंटर अमलीडीह (पानी टंकी के सामने), रायपुर छत्तीसगढ़
वाट्सअप- 9826753304
ई मेल : jayantsahu9@gmail.com
भारत के समाचारपत्रों के पंजीयक का कार्यालय नई दिल्ली
पंजीकरण संख्या-: CHHCHH/2014/56285