Home News Contact About

विज्ञापन खातिर आरो करव-

jayantsahu9@gmail.com
'अंजोर ' छत्तीसगढ़ी मासिक पत्रिका वेब संस्करण ---- anjore.cg@gmail.com

काव्योपाध्या‍य हीरालाल के नाम म राज्य अलंकरण के मांग करिस प्रदेश के साहित्यकार


अंजोर.रायपुर, 11 सितंबर। छत्तीसगढ़ी व्याकरण के सर्जक काव्योपाध्याय हीरालाल जी के सुरता म 11 सितंबर के ‘सुरता हीरालाल’ कार्यक्रम के आयोजन नव उजियारा साहित्यिक, सांस्कृतिक संस्था अउ अंजोर के संयुक्त तत्वावधान म आयोजित करे गिस। 11 सितंबर 1884 म व्याकरर्णाचार्य हीरालाल ल बंगाल के राजा सुरेंद्र मोहन ठाकुर के संस्था डहर ले ‘काव्योपाध्याय उपाधि’ अउ ‘स्वर्ण बाजूबंद’ ले सम्मानित करे गे रिहिस। काबर के काव्योपाध्याय जी के जन्म अउ देहावसान के तिथि के जानबा नइये इही सेती प्रदेश के साहित्यकार मन 11 सितंबर ल बहुत ही खास दिन मानके उंकर सुरता करथे। कार्यक्रम म विशेष रूप ले लोकखेल उन्नायक, साहित्यकार चंद्रशेखर चकोर, गीतकार गोविंद धनगर, कवि दुष्यंत कुमार साहू अउ लेखक जयंत साहू सहित केऊ झिन साहित्यकार उपस्थित रिहिस। ए मउका म साहित्यकार मन ह काव्योपाध्याय हीरालाल जी के छत्तीसगढ़ी भाषा म योगदान के बढ़ई करत किहिन के 1885 म छत्तीसगढ़ी के व्याकरण आ चुके रिहिस, जबकि हिन्दी के 1920 म आइस। हीरालाल जी साहित्यकार, शिक्षाविद् अउ संगीत के ज्ञाता रिहिस। उंकर लेख व्याकरण के अंग्रेजी अनुवाद सर जार्ज ग्रियर्सन ह 1890 म प्रकाशित करिन, जेकर उल्लेख प्रदेश के कई इतिहासकार अउ साहित्यकार करत हावय।

छत्तीसगढ़ के अइसन महान विभूति काव्योपाध्याय हीरालाल के नाम ले छत्तीसगढ़ राज्य बने के 20 साल बाद भी कोनो सम्मान अउ आयोजन सरकार डहर ले नइ करे जाना बहुत ही दुर्भाग्यपूर्ण हावय, येकर ले छत्तीसगढ़ी साहित्य बिरादरी आहत हावय। ए मउका म साहित्यकार मन ह सरकार ले ये मांग करिस के हर साल 11 सितंबर के छत्तीसगढ़ शासन के संस्कृति विभाग डहर ले सुरता कार्यक्रम के आयोजन हो, अऊ छत्तीसगढ़ राज्य‍ स्थापना दिवस म दे जाये वाला राज्य अलंकरण म काव्योपाध्याय हीरालाल के नाम म छत्तीसगढ़ी भाषा म जाबर बुता करइया ल सम्मानित करे जाए। अभी सरकार डहर ले संस्कृति परिषद् के गठन करे जात हावय जेमा काव्योपाध्याय हीरालाल के नाम ले भी एक शोध संस्थान के गठन करे जाए, जेन छत्तीसगढ़ी भाषा के संरक्षण अउ संवर्धन के संग छत्तीसगढ़ी लेखन के इतिहास म शोधपरक बुता करही। 

साहित्यकार मन ह आगू ये भी किहिन के अलग छत्तीसगढ़ राज्य बने के बाद भी इहां के लोक कलाकार अउ साहित्यकार उपेक्षित हावय। अब यदि अब सरकार हमर पुरख मनके सम्मान नइ करही त येकर बर जुट होके आवाज उठाबो  अउ काव्योपाध्याय हीरालाल राज्य अलंकरण के खातिर प्रदेश के सबो जिला के साहित्यकार मन पाती लिखके ले शासन ले मांग करही।

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

जोहार पहुना, मया राखे रहिबे...

किस्सा कहिनी

कला-संस्कृति-साहित्य

सियानी गोठ

follow us

Twitter Twitter
Facebook Facebook
Youtube Youtube
महतारी भाखा के उरउती खातिर भारत के समाचार पत्र के पंजीयक कार्यालय नई दिल्ली म पंजीकृत ' अंजोर ' छत्तीसगढ़ी मासिक पत्रिका के anjor.online वेब संस्करण म छत्तीसगढ़ी बुलेटिन, किस्सा-कहानी अउ कला-मनोरंजन संग सोशल मीडिया के चारी, कुछ आन भाखा के अनुवाद समोखे, छत्तीसगढ़ के जन भाखा म जन-जन तक बगराथन। जुड़व ये उदीम - anjore.cg@gmail.com

Contact Us

नाम

ईमेल *

संदेश *

स्‍वामी/ प्रकाशक/ मुद्रक – जयंत साहू
संपादकीय कार्यालय – डूण्डा, सेजबहार रायपुर, छत्‍तीसगढ़ 492015
सिटी कार्यालय - प्रकाश मोबाईल सेंटर अमलीडीह (पानी टंकी के सामने), रायपुर छत्तीसगढ़
वाट्सअप- 9826753304
ई मेल : jayantsahu9@gmail.com
भारत के समाचारपत्रों के पंजीयक का कार्यालय नई दिल्ली
पंजीकरण संख्या-: CHHCHH/2014/56285