Home News Contact About
'अंजोर ' छत्तीसगढ़ी मासिक पत्रिका वेब संस्करण ---- anjore.cg@gmail.com

कुरूद के नारी गांव म महिला मन इलेक्ट्रॉनिक चाक चलाके माटी म गढ़त हावय आजीविका


अंजोर.धमतरी। आधुनिकता अउ वैज्ञानिकता के दौर म पुरातन परम्परा अउ संस्कृति ल बचाये रखना आज गजब चुनौती होगे हावय। अइसन म अपन पुश्तैनी व्यवसाय ले जुड़े लोगन ल येला जारी रखे खातिर गजब मेहनत करे बर परत हाबे। कतको झिन मन ये बुता ल छोड़के आन काम धंधा तको सुरू कर दे हावय। एजेंसी कोति ले आरो मिले हावय के कुरूद विकासखण्ड के ग्राम नारी म महिला समूह ल मल्टी युटिलिटी सेंटर म माटीकला के प्रशिक्षण दे जावत हाबे जिहा माटी के कलात्मक बर्तन, उपकरण बनाये के उत्कृष्ट प्रशिक्षण संग म काम के एवज म पइसा तको मिलत हाबे।

जुन्ना बखत म कुम्हार के बनाये माटी बर्तन ल बउरे, ये उंकर जीविकोपार्जन के सशक्त माध्यम तको रिहिसे। अब कुछ बछर म मशीनीकरण के दौर म श्रमसाध्य काम अउ संस्कृति, कला शिल्प के अधोपतन होए हाबे जेकर सेती पुरखा के बुता ल छोड़के आन काम अपनावत हाबे। इही शिल्प कला ल फेर जिवित करे खातिर छत्तीसगढ़ माटीकला बोर्ड ह समूह के महिला मनला मृदा शिल्प के प्रशिक्षण देत हावय। जेमा माटी के कुल्हड़, कप, गिलास, केतली, दाल-कटोरा, रोटी-कटोरी, पानी बोतल, बिरयानी हण्डी, पेन स्टैण्ड, गमला आदि बनावत हावय। अऊ पारंपरिक चाक के जघा इलेक्ट्रॉनिक चाक चलाके महिला मन नंदावत बुता ल अपनाये के संगे-संग अवइया दिन म येला आमदनी के बेहतर अउ सशक्त माध्यम बनाये उदीम होही।

कोई टिप्पणी नहीं:

टिप्पणी पोस्ट करें

जोहार पहुना, मया राखे रहिबे...

किस्सा कहिनी

Contact Us

नाम

ईमेल *

संदेश *

कला-संस्कृति-साहित्य

follow us

T-Twitter | F-Facebook | Y-Youtube | Instagram | Pinterest
महतारी भाखा के उरउती खातिर भारत के समाचार पत्र के पंजीयक कार्यालय नई दिल्ली म पंजीकृत ' अंजोर ' छत्तीसगढ़ी मासिक पत्रिका के anjor.online वेब संस्करण म छत्तीसगढ़ी बुलेटिन, किस्सा-कहानी अउ कला-मनोरंजन संग सोशल मीडिया के चारी, कुछ आन भाखा के अनुवाद समोखे, छत्तीसगढ़ के जन भाखा म जन-जन तक बगराथन। जुड़व ये उदीम - anjore.cg@gmail.com

सियानी गोठ

भारत के समाचारपत्रों के पंजीयक का कार्यालय नई दिल्ली
पंजीकरण संख्या-: CHHCHH/2014/56285