Home News Contact About
'अंजोर ' छत्तीसगढ़ी मासिक पत्रिका वेब संस्करण ---- anjore.cg@gmail.com

मुख्यमंत्री के गांव बेलौदी म बनही प्रवासी पक्षी मन खातिर विचरण प्रक्षेत्र


अंजोर.रायपुर। छत्तीसगढ़ म गजब अकर चिरई चिरगुन आन देश ले तको आथे अऊ इहचे कुछ दिन बिताये के बाद फेर लहुट जथे अपन देश। अइसने प्रवासी पक्षी के सेती पाटन के एक गांव बेलौदी तको मशहूर हावय, जेन प्रदेश के मुखिया के गांव तको हावय। अब बेलौदी के जलाशय म प्रवासी पक्षी मन खातिर पक्षी विचरण प्रक्षेत्र बनाये के योजना बनत हाबे। जेबर बर कलेक्टर दुर्ग डॉ. सर्वेश्वर नरेंद्र भुरे ह साइट के अवलोकन करिन हावय। डीएफओ केआर बढ़ाई, अधिकारी वनमंडल दुर्ग विवेक शुक्ला मन ह साइट के विशेषता म तको जानकारी दे हाबे। 

जानबा होवय के जिला के जाने माने बर्ड वाचर अउ वाइल्ड लाइफ फोटोग्राफर राजू वर्मा ह मुख्यमंत्री श्री बघेल ल बेलौदी म माइग्रेटरी बर्ड्स के कंजर्वेशन के संबंध निहित संभावना के बारे म प्रस्ताव रखे रिहिन। उंकरे बताये मुताबिक इहां 63 प्रकार के प्रजाति के पक्षी मन म 31 तो प्रवासी पक्षी हावय। उंकर संरक्षण अउ विकास म काम होही तव बर्ड वाचिंग के मैप म बेलौदी अउ छत्तीसगढ़ के नाम प्रमुखता ले उभरही। 

साइट म मौजूद तहसीलदार अउ बर्ड वाचिंग म रूचि रखइया अनुभव शर्मा ह विस्तार ले जानकारी दीस के इहां अलग-अलग मौसम म कैस्पियन सागर, तिब्बत अउ साइबेरिया ले प्रवासी पक्षी आथे। कुछ पक्षी सीजन तक इहे बसेरा बना लेते अउ कुछ अच्छा खुराक लेके आगू बढ़ जाथे। वन विभाग के अधिकारी मनके बताये मुताबिक ये साल इंवेटरी म काम होही। माने साल भर इहां प्रवासी पक्षी के आये के ट्रेंड देखही। ओकरे आधार म खाये के जरूरत के आरो ले लिही अउ पक्षी विज्ञानी ह पूरा समय रिसर्च करही। 

बेलौदी के ह आगू चलके पर्यटन के रूप म तको उभरही काबर के बर्ड वाचिंग खातिर दुरिहा दुरिहा ले पक्षी प्रेमी आथे। बने विकसित होही तव भरतपुर के केवलादेव पक्षी विहार कस इहो तको पर्यटन खातिर गजब संभावना पैदा होही। उंकर बताये मुताबिक बलौदी म बार हेडेड गूस, ब्लैक हेडेड आइबिस, ब्लैक विंग काइट, कॉमन क्रेस्टल, करमोरेंट, गोल्डन प्लोवर, ग्रीन सेंड पाइपर, हुदहुद, लिटिल रिंग प्लावर, नॉर्थन पिनटेल, पेंटेड स्टोर्क, रेड नेपड आइबिस, रेड क्रेस्टेड पोचार्ड, बुलबुल, स्पून बिल स्टोर्क, शार्ट टोड स्नैक ईगल, वाइट ऑय बजार्ड, वूली नेकेड स्टोर्क, ब्लैक विंग स्टिल्ट, कॉटन पिग्मी गूस, गार्गने, लिटिल इग्रेट, ग्रेट इग्रेट, ओपन बिल स्टोर्क, सिकरा, मार्श हैरियर, बूटेड ईगल, ग्रेटर स्पॉटेड ईगल, ऑसप्रे, स्पॉटेड आउल, बर्न आउल, येल्लो ऑय बाबलर, ब्लैक रेड स्टार्ट, ब्लू थ्रोट, कॉमन रेड शेंक, करलीव, विमरेल, ग्लॉसी आइबिस, ग्रीन बी ईटर, ग्रे हेडेड लापविंग, रेड लैप्विंग, येलो लैप्विंग, लेजर विजलिंग डक, सुर्खाब (रूडी शेलडक), चातक (कूकू), ओरिएंटल डार्टर, रॉसी स्टर्लिंग, चेस्टनट स्टर्लिंग, सफेद खंजन (वाइट वैगटेल), पिला खंजन (येल्लो वैगटेल), कापर स्मिथ बर्बेट, हनी बजार्ड, नाईट हेरॉन, पर्पल हेरॉन, ग्रे हेरॉन, गोल्डन ओरियल, इंडियन पैराडाइस फ्लाई केचर ,डिजर्ट वीटर पर्पल मोरहेन, जैकाना कामन टील, गढ़वाल, लिटिल ग्रेबे, साइबेरियन स्टोनचौट, इंडियन क्राउसर, ईगल आउल, नाईट जार, यूरेशियन राइनेक, इंडियन रोलर, ग्रे हॉर्न बिल,येल्लो फूटेड ग्रीन पिजन, श्राईक, स्नैप, कॉमन कूट, कॉमन पोचार्ड, क्रेस्टेड ग्रेबे जइसन पक्षी आथे।

कोई टिप्पणी नहीं:

टिप्पणी पोस्ट करें

जोहार पहुना, मया राखे रहिबे...

किस्सा कहिनी

Contact Us

नाम

ईमेल *

संदेश *

कला-संस्कृति-साहित्य

follow us

T-Twitter | F-Facebook | Y-Youtube | Instagram | Pinterest
महतारी भाखा के उरउती खातिर भारत के समाचार पत्र के पंजीयक कार्यालय नई दिल्ली म पंजीकृत ' अंजोर ' छत्तीसगढ़ी मासिक पत्रिका के anjor.online वेब संस्करण म छत्तीसगढ़ी बुलेटिन, किस्सा-कहानी अउ कला-मनोरंजन संग सोशल मीडिया के चारी, कुछ आन भाखा के अनुवाद समोखे, छत्तीसगढ़ के जन भाखा म जन-जन तक बगराथन। जुड़व ये उदीम - anjore.cg@gmail.com

सियानी गोठ

भारत के समाचारपत्रों के पंजीयक का कार्यालय नई दिल्ली
पंजीकरण संख्या-: CHHCHH/2014/56285