Home News Contact About
'अंजोर ' छत्तीसगढ़ी मासिक पत्रिका वेब संस्करण ---- anjore.cg@gmail.com

राजेश मधुकर के गीत - दुर्गा दाई


दुर्गा दाई तैहर आये नउठिन रूप धरके, 
पहली दिन तै आथच दाई शैलपुत्री बनके। 
पहाड़ के तै बेटी कहाये आथच बइला म चढ़के, 
हाथ म त्रिशूल आउ कमल फूल ल धरके।। दुर्गा दाई तैहर

दूसर दिन तै आथच दाई ब्रम्ह्चारिणी बनके, 
ज्ञान के परतीक तैहर देवी आथच बनके। 
हाथ म कमण्डल आउ माला ल धरके, 
दुर्गा दाई तैहर आये नउठिन रूप धरके।। 

तीसर दिन तै आथच दाई चंद्रघंटा बनके, 
शांति आउ कलियानकारी रूप धरके। 
माथा म आधा चंदा आउ सोनहा रूप धरके, 
दुर्गा दाई तैहर आये नउठिन रूप धरके।। 

चउथा दिन तै आथच दाई कूष्मांडा बनके, 
चेहरा म लाये सुघ्घर मुस्कान ल धरके। 
सबला हँसना मुस्कुराना सिखाये अपन बस म करके, 
दुर्गा दाई तैहर आये नउठिन रूप धरके।। 

पाचवाँ दिन तै आथच दाई स्कंदमाता बनके, 
भगवान स्कन्द के दाई कहाये ओला जनके। 
पद्मासन देबी कहाय हाथ म कमल फूल धरके, 
दुर्गा दाई तैहर आये नउठिन रूप धरके।। 

छठवाँ दिन तै आथच दाई कात्यायनी बनके, 
ऋषि कात्यायन घर जनम लेये बेटी बनके। 
योग साधना सिखाये,फलदायनी देवी बनके,
दुर्गा दाई तैहर आये नउठिन रूप धरके।। 

सातवाँ दिन तै आथच दाई कालरात्रि बनके, 
सुघ्घर रूप ल छोडके आये भयानक रूप धरके। 
दुष्ट मन ल नाश करें अंतस के डर ल दूर करके, 
दुर्गा दाई तैहर आये नउठिन रूप धरके।। 

आठवाँ दिन तै आथच दाई महागौरी बनके, 
सादा रूप,सादा साड़ी,सादा बइला म चढ़के। 
सबो भक्त मन के पाप ल दूर करईया बनके, 
दुर्गा दाई तैहर आये नउठिन रूप धरके।। 

नवमी के दिन तै आथच दाई सिद्धिदात्री बनके, 
आये सब कोई के सिद्धि ल पुरा करईया बनके। 
नवों रूप के आखरी रूप सिद्धिदात्री बनके, 
दुर्गा दाई तैहर आये नउठिन रूप धरके।। 

राजेश मधुकर - कटघोरा,कोरबा [ 9755161723]

कोई टिप्पणी नहीं:

टिप्पणी पोस्ट करें

जोहार पहुना, मया राखे रहिबे...

किस्सा कहिनी

Contact Us

नाम

ईमेल *

संदेश *

कला-संस्कृति-साहित्य

follow us

T-Twitter | F-Facebook | Y-Youtube | Instagram | Pinterest
महतारी भाखा के उरउती खातिर भारत के समाचार पत्र के पंजीयक कार्यालय नई दिल्ली म पंजीकृत ' अंजोर ' छत्तीसगढ़ी मासिक पत्रिका के anjor.online वेब संस्करण म छत्तीसगढ़ी बुलेटिन, किस्सा-कहानी अउ कला-मनोरंजन संग सोशल मीडिया के चारी, कुछ आन भाखा के अनुवाद समोखे, छत्तीसगढ़ के जन भाखा म जन-जन तक बगराथन। जुड़व ये उदीम - anjore.cg@gmail.com

सियानी गोठ

भारत के समाचारपत्रों के पंजीयक का कार्यालय नई दिल्ली
पंजीकरण संख्या-: CHHCHH/2014/56285