Home News Contact About
'अंजोर ' छत्तीसगढ़ी मासिक पत्रिका वेब संस्करण ---- anjore.cg@gmail.com

छत्तीसगढ़ के प्रसिद्ध लोक गायिका पद्मश्री ममता चंद्राकर अउ प्रेम दाऊ के चैनल म बहुत जल्दी आही नवा सिरजन


सिनेमा.28। छत्तीसगढ़ के बड़का कलाकार पद्मश्री ममता चंद्राकर जी के गाये लोकगीत छत्तीसगढ़ी परंपरा अउ संस्कृति के जबर चिन्हारी आए। मंचीय प्रस्तुति के दौर ले लेके ऑडियो-वीडियों, फिचर फिलिम अऊ अब सोशल मीडिया के दौर म तको ओमन दखल राखथे। दाऊ प्रेम चंद्राकर जी के संयोजन म लोक सांस्कृतिक संस्था म तइहा ले अब तक के गाये सबो गाना अब उंकर यूट्यूब चैनल ‘चिन्हारी’ म अपलोड हवय।  

येकर अलावा नवा-नवा गीत के सिरजन होए के बाद इही चैनल म रिलीज तको होवत हाबे। दाऊ प्रेम चंद्राकर के चिन्हारी चैनल म 75 हजार ले आगर सब्सक्राइबर जुड़े हावय अउ 100 ले ऊपर वीडियो। जेमा लोक परब उत्सव के गीत, संस्कार के गीत अउ मनोरंजन गीत के सुघ्घर संकलन हावय।  

सोशल मीडिया ले अऊ आरो मिले हाबे के दाऊ प्रेम चंद्राकर अउ ममता चंद्राकर के बहुत जल्दी नवा सिरजन दर्शक मनके बीच अवइया हाबे। चिन्हारी चैनल म नवा गीत के अगोरा करत- लुगरा मंगायेंव, आमा पान के दोना, बाली उमर में, एक फुल टोरतेंव, बर तरी खड़े हे बरतिया, कहां रे हरदी, मधुरी मधुरी पग, तोला माटी कोड़े ल, पइंया पखारत बइंहा डोले, सुरहिन गइया के गोबर.... जइसन गीत के आनंद लेवत रहव।


 



कोई टिप्पणी नहीं:

टिप्पणी पोस्ट करें

जोहार पहुना, मया राखे रहिबे...

किस्सा कहिनी

Contact Us

नाम

ईमेल *

संदेश *

कला-संस्कृति-साहित्य

follow us

T-Twitter | F-Facebook | Y-Youtube | Instagram | Pinterest
महतारी भाखा के उरउती खातिर भारत के समाचार पत्र के पंजीयक कार्यालय नई दिल्ली म पंजीकृत ' अंजोर ' छत्तीसगढ़ी मासिक पत्रिका के anjor.online वेब संस्करण म छत्तीसगढ़ी बुलेटिन, किस्सा-कहानी अउ कला-मनोरंजन संग सोशल मीडिया के चारी, कुछ आन भाखा के अनुवाद समोखे, छत्तीसगढ़ के जन भाखा म जन-जन तक बगराथन। जुड़व ये उदीम - anjore.cg@gmail.com

सियानी गोठ

भारत के समाचारपत्रों के पंजीयक का कार्यालय नई दिल्ली
पंजीकरण संख्या-: CHHCHH/2014/56285