Home News Contact About
'अंजोर ' छत्तीसगढ़ी मासिक पत्रिका वेब संस्करण ---- anjore.cg@gmail.com

विश्व आदिवासी दिवस के मउका म मुख्यमंत्री अउ राज्यपाल ह प्रदेशवासी मनला दीस शुभकामना

रायपुर.08। छत्तीसगढ़ के मुख्यमंत्री श्री भूपेश बघेल अउ राज्यपाल सुश्री अनुसुईया उइके ह 9 अगस्त के विश्व आदिवासी दिवस के प्रदेशवासी मनला विशेषकर आदिवासी समाज ल बधाई अउ शुभकामना दीस। ये मउका म मुख्यमंत्री ह अपन बधाई संदेश म किहिन के छत्तीसगढ़ जनजाति बाहुल्य प्रदेश आए। जनजाति के प्राचीन कला अउ संस्कृति इहां के अनमोल धरोहर आए। छत्तीसगढ़ सरकार आदिवासी मनके प्राचीन विरासत अउ संस्कृति ल सहेजत उंकर विकास करत मुख्यधारा म लाने खातिर संकल्पित हावय। हमार कोशिश हावय के प्रकृति के तिर जीवन जिवइया इहां के 32 प्रतिशत आदिवासी जनता ल आवश्यक नागरिक सुविधा अउ आगू बढ़े के सबो साधन सुलभ होवय। 

आदिवासी सांस्कृतिक विरासत ल नया आयाम दे खातिर हमन अनेक कदम उठायेन। छत्तीसगढ़ म विश्व आदिवासी दिवस म सामान्य अवकाश घोषित हाबे। प्रदेश म पहली बार राष्ट्रीय आदिवासी महोत्सव के आयोजन राजधानी रायपुर म होइस। जेकर ले आदिवासी प्राचीन संस्कृति अउ कला ल विश्वपटल म नवा चिनहारी मिलिस। 

विश्व आदिवासी दिवस के मउका म देश अउ प्रदेश के आदिवासी समाज अउ सबो नागरिक मनला हार्दिक शुभकामनाएं देवत प्रदेश के राज्यवपाल सुश्री अनुसुईया उइके ह अपन बधाई संदेश म किहिन के छत्तीसगढ़ देश के ओ प्रदेश म शामिल हावय, जिहा करीब 32 प्रतिशत आदिवासी निवासरत हावय, जिकर संस्कृति अउ परम्परा अनूठा हावय। आदिवासी समाज ह नदिया, नरवा, तरिया, झरना, पहाड़, शिखर गुफा, कंदरा, लता, वृक्ष अउ पशु-पक्षी म तको देवशक्ति अवतरित करके उंकर प्रति आदर भाव प्रदर्शित करे हावय। अइसन भाव के सेती ही आदिवासी समाज सहज रूप ले समृद्ध होए हाबे। 

हमर आदिवासी समाज के लोगन मन सदा प्राचीन समय ले संस्कृति-परंपरा अउ प्रकृति के संरक्षक रहे हावय। इतिहास गवाह हाबे के बखत परे म देश के रक्षा खातिर आक्रमणकारी मनके खिलाफ लड़े अउ अउ बलिदान दे हाबे। ये समाज म बिरसा मुण्डा, वीर नारायण सिंह, गुंडाधुर, रानी दुर्गावती, रघुनाथ शाह, शंकर शाह, बादल भोई, टंटया भील जइसन महान लोगन मन अवतरित होइन, जेन देश के रक्षा खातिर प्राण गवाइस। मै उनला नमन करत फेर सबो जनता ल विश्व आदिवासी दिवस के शुभकामना देवत हवं।

कोई टिप्पणी नहीं:

टिप्पणी पोस्ट करें

जोहार पहुना, मया राखे रहिबे...

किस्सा कहिनी

Contact Us

नाम

ईमेल *

संदेश *

कला-संस्कृति-साहित्य

follow us

T-Twitter | F-Facebook | Y-Youtube | Instagram | Pinterest
महतारी भाखा के उरउती खातिर भारत के समाचार पत्र के पंजीयक कार्यालय नई दिल्ली म पंजीकृत ' अंजोर ' छत्तीसगढ़ी मासिक पत्रिका के anjor.online वेब संस्करण म छत्तीसगढ़ी बुलेटिन, किस्सा-कहानी अउ कला-मनोरंजन संग सोशल मीडिया के चारी, कुछ आन भाखा के अनुवाद समोखे, छत्तीसगढ़ के जन भाखा म जन-जन तक बगराथन। जुड़व ये उदीम - anjore.cg@gmail.com

सियानी गोठ

भारत के समाचारपत्रों के पंजीयक का कार्यालय नई दिल्ली
पंजीकरण संख्या-: CHHCHH/2014/56285