Home News Contact About
'अंजोर ' छत्तीसगढ़ी मासिक पत्रिका वेब संस्करण ---- anjore.cg@gmail.com

गोपाल कृष्ण पटेल के कविता : मजबूर हे मजदूर


मजबूर हे मजदूर



               करोना के डर ले, डरागिन सब मजदूर।
               काम होइस बंद, घर जाय बर मजबूर।।

घर ले कतका दूर हे, पइसा  के चाह।
रद्दा सब्बो बंद हे, कइसे हो निर्वाह।।

               मिले के चाह अड़बड़ हे, कइसे हे परिवार।
               जुरमिलके सह लेबो, करोना के मार।।

कइसे हमर जिनगी,सदा रहय लचार।
अब तक देखे निहि,रंग भरे तिहार।।

               हमर किस्मत म लिखे हे, बस दुख के सउगात।
               काल कहीं "घर भेज देवव", हमर का अवकात।।

रोज कमाई पेट के, होगे हे मंद।
अब कइसे जिनगी चलय,सब्बो रद्दा बंद।।

               जीबो मरबो सब होगे, करोना के हाथ।
               हमनके एक्के आस हे संगी दीहि साथ।।

सब्बो साथी चल दिन, पइदल अपन गांव।
हिम्मत नई हारिस, छाला बाला पांव।।

- गोपाल कृष्ण पटेल "जी1"
शिक्षक कॉलोनी डंगनिया, रायपुर
- gopalpatelweek@gmail.com

No comments:

Post a Comment

जोहार पहुना, मया राखे रहिबे...

किस्सा कहिनी

Contact Us

Name

Email *

Message *

कला-संस्कृति-साहित्य

follow us

T-Twitter | F-Facebook | Y-Youtube | Instagram | Pinterest
महतारी भाखा के उरउती खातिर भारत के समाचार पत्र के पंजीयक कार्यालय नई दिल्ली म पंजीकृत ' अंजोर ' छत्तीसगढ़ी मासिक पत्रिका के anjor.online वेब संस्करण म छत्तीसगढ़ी बुलेटिन, किस्सा-कहानी अउ कला-मनोरंजन संग सोशल मीडिया के चारी, कुछ आन भाखा के अनुवाद समोखे, छत्तीसगढ़ के जन भाखा म जन-जन तक बगराथन। जुड़व ये उदीम - anjore.cg@gmail.com

सियानी गोठ