Home News Contact About
'अंजोर ' छत्तीसगढ़ी मासिक पत्रिका वेब संस्करण ---- anjore.cg@gmail.com

आरू साहू बगराही अब माता कर्मा के महिमा, अवइया हाबे ‘मोर कर्मा मइया’ वीडियो एलबम

धमतरी। छत्तीसगढ़ म बिगर गीत के कोनो संस्कार पुरा नइ होये, ना ही धरम-करम के बुता सीद्ध परय। तइहा ले अबतक सबो विधा म गजब अकन गीत के सिरजन होत हाबे। इही कड़ी म आरो मिले हाबे के तेली कुल के भक्तिन दाई माता कर्मा के महिमा के सोर बगरावत वीडियो एलबम नान्हे गायिका आरू साहू के स्वर म अवइया हाबे। 
छत्तीसगढ़ के कन-कन म कला अउ संगीत बसथे। इहां के नदिया-नरवा, डोगरी-पहाड़, खेती-खार म कोन जनी का जादू हाबे ते गीत-संगीत के मीठ मोहनी सबो ल रस डारथे। नान-नान गांव ले तो अऊ जबर कला के धनी के जनम होथे। येकर छत्तीसगढ़ म कतकोन बड़का परमान देखे बर मिलथे जेमन आज देश दुनिया म छत्तीसगढ़ी लोककला के डंका बजावत हाबे। येमा आजकल छत्तीसगढ़ के नान्हे नोनी आरू साहू के नाव के तको गजब सोर बगरत हाबे। ओजस्वी साहू यानी आरू नगरी धमतरी जइसन छोटे अंचल के बड़े प्रतिभा आए।
आरू साहू के जीवन के सबले बड़का दिन ओ बखत अइस जब छत्तीसगढ़ के राजगीत के रूप म डॉ. नरेन्द्र देव वर्मा के लिखे गीत ‘अरपा पइरी के धार’ ल स्वीकार करे गीस अउ इही नोनी ल सबले आगू ओही गीत ल राज्योत्सव के जबर जलसा म गाए के मउका मिलिस। येकर पहिली घलोक आरू के नाव के चर्चा रिहिसे। ओमन सबो किसम के गाना गाथे। बड़का कलाकार मन बरोबर नोनी ह सोशल मीडिया म तको लाइव रथे। पाछू दिन ओमन अपन आधिकारिक सोशल अकाउंट ले लोगन ले मया भरे गोठबात संग गीत के फरमाइस पूरा करत रिहिन। इही बीच ओमन अपन अवइया गीत के बारें म तको बताइन के माता कर्मा ल लेके उंकर नवा वीडियो एलबम लघियात अवइया हाबे। 
मिले आरो के मुताबिक स्वर कोकिला आरू साहू के स्वर म अवइया गीत ‘मोर कर्मा मइया’ के गीत अउ संगीत आए जीतेन्द्र साहू के जेन ह क्रिएटिव विजन के बैनर तले अवइया हाबे। वइसे तो आरू सबो प्रकार के गाना गाथे खास करके ओमन के स्वर म छत्तीसगढ़ के जुन्ना कलाकार मनके गीत मन तो घातेच नीक-नीक लागथे।

No comments:

Post a Comment

जोहार पहुना, मया राखे रहिबे...

किस्सा कहिनी

Contact Us

Name

Email *

Message *

कला-संस्कृति-साहित्य

follow us

T-Twitter | F-Facebook | Y-Youtube | Instagram | Pinterest
महतारी भाखा के उरउती खातिर भारत के समाचार पत्र के पंजीयक कार्यालय नई दिल्ली म पंजीकृत ' अंजोर ' छत्तीसगढ़ी मासिक पत्रिका के anjor.online वेब संस्करण म छत्तीसगढ़ी बुलेटिन, किस्सा-कहानी अउ कला-मनोरंजन संग सोशल मीडिया के चारी, कुछ आन भाखा के अनुवाद समोखे, छत्तीसगढ़ के जन भाखा म जन-जन तक बगराथन। जुड़व ये उदीम - anjore.cg@gmail.com

सियानी गोठ