Home News Contact About
'अंजोर ' छत्तीसगढ़ी मासिक पत्रिका वेब संस्करण ---- anjore.cg@gmail.com

मोची दुकान खुले ले अब कुंतीबाई निसफिकिर

मोची दुकान के परसादे अपन गुजारा चलइया नारायणपुर के कुंतीबाई पति के बिते के बाद 21 बछर ले जूता-चप्पल तूने के बुता करत हाबे। 

फेर दोखहा कोरोना राई के सेती दुकान नी खुलत रिहिसे। डीपीआर के मुताबिक जब कुंतीबाई ह एक महीना बाद अपन दुकान ल खोलिस तव दूये घंटा म 100 रूपिया कमा डरिस। वइसे तो सरकार ह सबो सुविधा देवत हाबे फेर अब दुकान के खुले ले नगदी पइसा तको हाथ म आही। जानबा होवय के सरकार ह दू महीना के फोकट म राशन के संग दार, तेल, मसाला, गुड़, आलू-प्याज तको दे हावय। कुंतीबाई अइसन कतकोन छोटे दुकान वाले मन अब शासन के निर्देश के मुताबिक मास्क अउ सोशल डिस्टेंसिंग के पालन करत कोरोना के लड़ई म साथ देवत हाबे।

किस्सा कहिनी

Contact Us

Name

Email *

Message *

कला-संस्कृति-साहित्य

follow us

T-Twitter | F-Facebook | Y-Youtube | Instagram | Pinterest
महतारी भाखा के उरउती खातिर भारत के समाचार पत्र के पंजीयक कार्यालय नई दिल्ली म पंजीकृत ' अंजोर ' छत्तीसगढ़ी मासिक पत्रिका के anjor.online वेब संस्करण म छत्तीसगढ़ी बुलेटिन, किस्सा-कहानी अउ कला-मनोरंजन संग सोशल मीडिया के चारी, कुछ आन भाखा के अनुवाद समोखे, छत्तीसगढ़ के जन भाखा म जन-जन तक बगराथन। जुड़व ये उदीम - anjore.cg@gmail.com

सियानी गोठ