Home News Contact About
'अंजोर ' छत्तीसगढ़ी मासिक पत्रिका वेब संस्करण ---- anjore.cg@gmail.com

जबर अलहन म चेतलग भूपेश सरकार

छत्तीसगढ़ म मुख्यमंत्री भूपेश बघेल के सरकार जब ले सत्ता म आए हाबे। कुछू न कुछू नवाचार के सेती आम जनता बर बड़ मयारूक होगे हाबे। खास करके मजदूर, किसान अउ छोटे बैपारी मन तो जै-जै गाथे उंघर नीत के। अब देखव न दुनिया म अतका बड़ कोरोना नाव के महामारी सचरे हावय, सरी जग खुवार होये के कगार म हाबे। तभो ले हमर छत्तीसगढ़ म एको अलहन नी होइस बल्कि अऊ उबरत जावत हावन।
सिरतोन बात किबे तव येहा भूपेश दाऊ के सरकार के चेतलक पन से निसानी आए।
बात महीना दिन जुन्ना आए जब भारत म कोरोना के छॉव दिखे लागिस। जानकार मन चीन संग आन विकसीत देस कोति ताकिस अउ सरी जनता ल ताकिद कर दिस के अब महामारी हमरो देस म पहुंच गे हावय। साव चेत हो जाए, येखर कोनो इलाज नइये, जी बचाना हाबे तव येकर फैलाव ल ही रोकना हाबे। छत्तीसगढ़ सरकार ठउका बेरा म अपन तियारी सुरू कर दीस। स्वास्थ्य विभाग संग अफसर मन के प्रशिक्षण अउ इलाज के बेवस्था के जिम्मा स्वयं मुखिया देखत रिहिन।  
छत्तीसगढ़ सरकार ह बिगर देरी करे लॉकडाउन के पहिली ही राज्य म लॉकडाउन जइसन स्थिति बना दे रिहिस। 22 तारीख के बाद तो सरकार अउ कड़ा होगे। स्कूल-कॉलेज बंद, परीक्षा स्थगित, सरकारी विभाग के कामकाज बंद। लॉकडाउन के पालन कराये बर पुलिस प्रशासन सड़क म उतरगे। मेडिकल अउ राशन जइसे जरूरी जिनिस के छोड़ बाकी सब चमाचम बंद। ढिठ मनखे ऊपर डंडा तको मारिस ताकी लोगन फोकट-फोकट बाहिर झिन निकले। कुछ परेसानी के बाद धीरे-धीरे जनता तको बात ल समझिस। 
अबतक छत्तीसगढ़ म कोरोना के मामला के बात करन तव सबले पहिली केस 19 मार्च के आइस। समता कॉलोनी रायपुर के 23 साल के नोनी ह लंदन ले आए रिहिसे। येकर बाद 25 मार्च के 1 थाईलैंड ले घूमके आए राजनांदगांव के युवक म अउ 1 युवती रायपुर अउ मिलिस जेन लंदन ले आये रिहिसे। 26 मार्च के 3 नवा केस अइस बिलासपुर, रायपुर अउ भिलाई म। 28 मार्च के रायपुर के ही यूके ले आए एक अऊ युवक म संक्रमण मिलिस। अइसे करके आज के जानकारी के मुताबिक 10 केस सामने आगे हावय।
अलहन के बखत म सबले बड़का जुमेदारी डॉक्टर अउ उंकर स्टाप मनके रिहिसे जोन अपन जीव होम के कोरोना सक्रमित लोगन के इलाज बर जूझगे। भूपेश सरकार सरलग सजग रहिके डॉक्टर मनके मनोबल बड़ावत आम लोगन मन ले तको अपील करते रिहिसे कि कोनो घर ले बाहिर झिन निकलो। कोनो ल भूखे नी राहन दव सरकार सबो के बेवस्था करही। भूपेश दाऊ के सियानी मति काम आइस अउ आज 10 म 7 झिन ह बने होके अपन घर लहुटगे हावय, बाकी 3 के इलाज चलत हावय।
सरकार बर 26 मार्च के दिन सबसे अचंभित अउ दुखी कर देने वाला दिन रिहिसे, जब 60 साल के मजदूर म कोरोना के संक्रमण मिलगे जबकि ओहा कहुंचो नी गे रिहिसे। माने ओकर भीतर वायरस के संक्रमण ह तीसरा चरण कोती ढकेलत रिहिसे प्रदेश ल। ये बखत सरकार के संग आम लोगन मन तको अपन जुमेदारी समझिन। एक दूसर ल सोशल मीडिया के माध्यम ले जानकारी बगराइस कि 'महुं घर हवं तहू ल घरे म रहना हाबे।' सोशल मीडिया ह ये मौका म बने काट करिस, कोनो भी मनखे से दूरिहा-दूरिहा म रहिके गोठबात करत सउहत देख लेवव। वीडियो कॉफ्रेस ले दिशा निर्देश के बाद भूपेश दाऊ मैदान म तको उतरथे। कभू अइसोलेसन सेंटर देखे बर जाथे, कभू सब्जी बजार त कभू डॉक्टर मन सो मिलथे। 
बड़का अलहन म छोटे-मोटे चूक तो होबे करथे फेर अब ओकरो से नी डरे ये सरकार ह काबर के अब केन्द्र सरकार कोति ले तको पंदोली मिलत हाबे। ओमन छत्तीसगढ़ सरकार के बड़ई करत कहे हावय के छत्तीसगढ़ राज ह कोरोना वायरस के संक्रमण के रोकथाम के प्रबंधन म सबले बने 10 राज म सामिल हाबे। अइसने शासन अउ प्रशासन ह आम जनता के खियाल करत काम करही तव निश्चित ही ये कोरोना नाव के महामारी ह छत्तीसगढ़ का देस अउ दुनिया ले तको भगा जही।
0 जयंत साहू, डूण्डा रायपुर

किस्सा कहिनी

Contact Us

Name

Email *

Message *

कला-संस्कृति-साहित्य

follow us

T-Twitter | F-Facebook | Y-Youtube | Instagram | Pinterest
महतारी भाखा के उरउती खातिर भारत के समाचार पत्र के पंजीयक कार्यालय नई दिल्ली म पंजीकृत ' अंजोर ' छत्तीसगढ़ी मासिक पत्रिका के anjor.online वेब संस्करण म छत्तीसगढ़ी बुलेटिन, किस्सा-कहानी अउ कला-मनोरंजन संग सोशल मीडिया के चारी, कुछ आन भाखा के अनुवाद समोखे, छत्तीसगढ़ के जन भाखा म जन-जन तक बगराथन। जुड़व ये उदीम - anjore.cg@gmail.com

सियानी गोठ