Home News Contact About

विज्ञापन खातिर आरो करव-

jayantsahu9@gmail.com
'अंजोर ' छत्तीसगढ़ी मासिक पत्रिका वेब संस्करण ---- anjore.cg@gmail.com

बारनवापारा अभ्यारण्य : अब नवा स्वरूप म जानवर के रहवास अउ चारागाह के खातिर अच्छा सुविधा विकसित

Barnavapara Sanctuary: Now a new form of good animal cohabitation facility developed

अंजोर.रायपुर। छत्तीसगढ़ के सबले उत्कृष्ट अउ आकर्षक अभ्यारण्य बारनवापारा के नया स्वरूप म कायाकल्प होइस हावय। ये कायाकल्प जंगली जानवर रहवास उन्नयन बुता कैम्पा (छत्तीसगढ़ प्रतिकरात्मक वनरोपण निधि प्रबंधन अउ योजना प्राधिकरण) के वार्षिक कार्ययोजना 2021-22 म स्वीकृत रकम ले करे गे हावय। येकर तहत 5 हजार 920 हेक्टेयर रकबा म सघन लेन्टाना उन्मूलन अउ यूपोटोरियम उन्मूलन के बुता होइस हावय। जेमा ले बारनवापारा अभ्यारण्य के 19 कक्ष म कुल 950 हेक्टेयर रकबा म लेन्टाना उन्मूलन के बुता अउ 32 कक्ष म कुल 4 हजार 970 हेक्टेयर रकबा म यूपोटोरियम उन्मूलन के बुता सामिल हावय।

राजधानी ले 100 किमी के दूर अभ्यारण्य म बहुतायत संख्या म वन्यप्राणी

राजधानी रायपुर ले लगभग 100 किलोमीटर के दूरी म बलौदाबाजार वनमंडल बारनवापारा अभ्यारण्य म जंगली जानवर रहवास उन्नयन बुता ले उहां मृदा म नमी होए के सेती घास प्रजाति लउहा ले बढ़े लगे हावयं। संग ही येकर ले अभ्यारण्य म जंगली जानवर मन के अब घास चरे खातिर अच्छा सुविधा उपलब्ध हो गे हावय। जेकर ले वो लेन्टाना अउ यूपोटोरियम के उन्मूलन बुता के बाद स्वच्छंद विचरण तको करे लगे हावयं। येकर ले पर्यटक के जंगली जानवर मन के सहजता ले दृष्टता होए हावय अउ जंगली जानवर तको स्वस्थ अउ तन्दुरूस्त देखाइस दे लगे हावयं। अभ्यारण्य म जंगली जानवर रहवास उन्मूलन बुता के बाद घास पुनुरोत्पादन म साफ अंतर देखे जा सकत हावय।

बारनवापारा अभ्यारण्य के कुल क्षेत्रफल 244.86 वर्ग किमी हावय

बारनवापारा अभ्यारण्य के कुल क्षेत्रफल 244.86 वर्ग किमी हावय जेमा मुख्यतः मिश्रित वन, साल वन अउ पहिली के सागौन वृक्षारोपण हावय। बारनवापारा म मुख्य रूप ले कर्रा, भिर्रा, सेन्हा, मिश्रित जंगल म पाये जात हावयं। सागौन वृक्षारोपण क्षेत्र म प्राकृतिक रूप ले उगे सागौन हावय अउ साल वन क्षेत्र कम रकबे म हावय। ये छत्रक प्रजाति के अकताहा शाकिय प्रजाति जइसे यूपोटोरियम, लेन्टाना, चरोठा उक प्रमुख खरपतवार हावयं, जेकर सेती बारनवापारा अभ्यारण्य क्षेत्र म पाये जाये वाला शाकाहारी जंगली जानवर मन के घास उक नइ मिलती, जंगली जानवर मन के आवागमन म तको दिक्कत होवत हावय अउ मॉसभक्षी जीव मन ले तको बचाव कठिन हो जाथे।

Barnavapara Sanctuary: Now a new form of good animal cohabitation facility developed

येला देखत रखत अभ्यारण्य म जंगली जानवर रहवास उन्नयन बुता के तहत सघन लेन्टाना अउ यूपोटोरियम के उन्मूलन के बुता करे गे हावय, जेकर ले बारनवापारा अभ्यारण्य म अब जंगली जानवर मन के वर्षभर हरी खाद्य घास उंकर भोजन अउ चारा के रूप म उपलब्ध हो सके। जानबा होवय के बारनवापारा अभ्यारण्य म तेन्दुए, गौर, भालू, साम्भर, चीतल, नीलगाय, कोटरी, चौसिंघा, जंगली सुअर, जंगली कुत्ता, धारीदार लकड़बग्घा, लोमड़ी, भेड़िया अउ मूषक मृग जइसे जंगली जानवर बहुतायत म मिलत हावय अउ आसानी ले दिखत तको हावय।

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

जोहार पहुना, मया राखे रहिबे...

किस्सा कहिनी

सियानी गोठ

स्‍वामी/ प्रकाशक/ मुद्रक – जयंत साहू
संपादकीय कार्यालय – डूण्डा, सेजबहार रायपुर, छत्‍तीसगढ़ 492015
सिटी कार्यालय - पानी टंकी के सामने, अमलीडीह रायपुर छत्तीसगढ़
वाट्सअप- 9826753304
ई मेल : jayantsahu9@gmail.com
भारत के समाचारपत्रों के पंजीयक का कार्यालय नई दिल्ली
पंजीकरण संख्या-: CHHCHH/2014/56285