Home News Contact About
'अंजोर ' छत्तीसगढ़ी मासिक पत्रिका वेब संस्करण ---- anjore.cg@gmail.com

आंगनबाड़ी के सुपोषण किट ले लघियात बाढ़त हावय लइका के वजन, दाई-ददा मगन


अंजोर.रायपुर। आंगनबाड़ी के माध्यम ले गांव मोहल्ला के नान्हे लइका अउ महतारी मनके बने जतन के बुता होवत हाबे। भले कोरोना के सेती अभी सेंटर नइ खुलत हाबे फेर कार्यकर्ता मन घर-घर जाके बुता करत हाबे। उंकर सफलता के जबर कहानी रायपुर के गुढ़ियारी अशोक नगर निवासी जयश्री रामटेके के इहां देखे बर मिले हावय। 2018 म पैदा होए श्रेया रामटेके के वजन जन्म के समय एक किलो आठ सौ ग्राम रिहिस। उमर के हिसाब ले आगू ओकर वजन नी बाढि़स। दाई-ददा ल फिकर होगे। तब स्वास्थ्य म सुधार खातिर नजदीक के आंगनबाड़ी ले संपर्क करिस। लइका के स्वास्थ्य ल ध्यान म रखके सुपोषण अभियान के तहत एक सुपोषण किट दे गिस जेमा दूध, बिस्किट, लड्डू अउ चिक्की रिहिस। कार्यकर्ता दीदी ह रोज बिहनिया बच्चा के घर जाके नाश्ता म दूध, केला अउ बिस्किट खाये बर दिस अउ दोपहर म घर म बने दाल, चावल, सब्जी के साथ अंडा, चिक्की अउ लड्डू दे जाथे। पर्यवेक्षक ह श्रेया के माता-पिता ल बच्ची ल एन.आर.सी. म बाल संदर्भ योजना अंतर्गत म भर्ती करे बर किहिन।

एन.आर.सी. ले छुट्टी के बाद पर्यवेक्षक ह श्रेया रामटेके के घर लगातार गृह भ्रमण करके पोषण आहार अउ स्वच्छता संबंधित जानकारी देते रिहिस। येकरे संग जीवन आधार समूह के महिला मन  श्रेया के स्वास्थ्य म विशेष निगरानी रखे रिहिन। श्रेया ल समूह कोति ले पइसा सकेल के प्रोटीन पाऊडर, मल्टीविटामिन, आयरन सीरप के दवा दे गिस। श्रेया म समय म खाना अउ समय दवा मिले ले वजन म लगातार बढ़ोत्तरी होना शुरू होगे। बच्ची के स्वास्थ्य कुपोषित ले सामान्य श्रेणी म आए ले माता-पिता अब निसफिकिर होगे।

कोई टिप्पणी नहीं:

टिप्पणी पोस्ट करें

जोहार पहुना, मया राखे रहिबे...

किस्सा कहिनी

Contact Us

नाम

ईमेल *

संदेश *

कला-संस्कृति-साहित्य

follow us

T-Twitter | F-Facebook | Y-Youtube | Instagram | Pinterest
महतारी भाखा के उरउती खातिर भारत के समाचार पत्र के पंजीयक कार्यालय नई दिल्ली म पंजीकृत ' अंजोर ' छत्तीसगढ़ी मासिक पत्रिका के anjor.online वेब संस्करण म छत्तीसगढ़ी बुलेटिन, किस्सा-कहानी अउ कला-मनोरंजन संग सोशल मीडिया के चारी, कुछ आन भाखा के अनुवाद समोखे, छत्तीसगढ़ के जन भाखा म जन-जन तक बगराथन। जुड़व ये उदीम - anjore.cg@gmail.com

सियानी गोठ

भारत के समाचारपत्रों के पंजीयक का कार्यालय नई दिल्ली
पंजीकरण संख्या-: CHHCHH/2014/56285