Home News Contact About
'अंजोर ' छत्तीसगढ़ी मासिक पत्रिका वेब संस्करण ---- anjore.cg@gmail.com

गांव म दसरहा-देवारी के तइयारी सुरू, दाई-दीदी मन एसो गोबर ले बनावत हाबे दीया


अंजोर.रायपुर,14। गांव म वइसे तो आन साल सहि एसो तको कुम्हार मन माटी के दीया लानही। फेर कोनोरा राई के सेती गांव के दीदी-बहिनी मन नवा बुता सीखे हावय, अपने गांव म स्वरोजगार के उदीम खोजत। इही जोग म अब घर के नानमून जरूरत के जिनिस ल घरे म बना डारथे। एजेंसी ले मिले आरो के मुताबिक दीदी मन लक्ठात तिहार ल देखत गोबर के दीया बनाये के सुरू कर दे हावय। बेमेतरा जिला के नगर पंचायत नवागढ़ के सफाई दीदी स्व-सहायता समूह के महिला मन गोबर के दीया बनाके बेचे के तइयारी म हावय। गोबर ले बने दीया अब प्रचार-प्रसार के सेती बजार म बने दाम म बेचाये के सुरू होगे हावय। अपन कला संस्कृति के सरेखा करे के सुघ्घर उदीम ल दीदी म अब एक दूसर ल तको येकर विधी सीखावत हाबे अउ आत्मनिर्भर बनत हावय।

कोई टिप्पणी नहीं:

टिप्पणी पोस्ट करें

जोहार पहुना, मया राखे रहिबे...

किस्सा कहिनी

Contact Us

नाम

ईमेल *

संदेश *

कला-संस्कृति-साहित्य

follow us

T-Twitter | F-Facebook | Y-Youtube | Instagram | Pinterest
महतारी भाखा के उरउती खातिर भारत के समाचार पत्र के पंजीयक कार्यालय नई दिल्ली म पंजीकृत ' अंजोर ' छत्तीसगढ़ी मासिक पत्रिका के anjor.online वेब संस्करण म छत्तीसगढ़ी बुलेटिन, किस्सा-कहानी अउ कला-मनोरंजन संग सोशल मीडिया के चारी, कुछ आन भाखा के अनुवाद समोखे, छत्तीसगढ़ के जन भाखा म जन-जन तक बगराथन। जुड़व ये उदीम - anjore.cg@gmail.com

सियानी गोठ

भारत के समाचारपत्रों के पंजीयक का कार्यालय नई दिल्ली
पंजीकरण संख्या-: CHHCHH/2014/56285