Home News Contact About
'अंजोर ' छत्तीसगढ़ी मासिक पत्रिका वेब संस्करण ---- anjore.cg@gmail.com

रक्षाबंधन 2020 : भाई के हाथ म बंधाही एसो स्वसहायता समूह के बहिनी मनके बनाये सस्ता अउ सुंदर स्वदेशी राखी

रायपुर.15। एसो के रक्षाबंधन यानी राखी तिहार म भाई मनके हाथ म दीदी मनके बनाये राखी ह शोभा पाही। राखी बनाये के बुता ल अब गांव-गांव के समू‍ह के महिला मन बने जोर देके करत हाबे। ये दिखे म बने दिखथे अउ दाम तको कमती हावय। 

एसो कोरोना राई के सेती कतकोन सहायता समूह के दीदी मन अब बाजार ले दू दू हाथ करे बर तइयार हाबे। सिजन के मुताबिक कभू दीया, कभू रंगोली, कभू रंग अऊ अब राखी। राखी ले आदमनी के साथ स्वदेशी सामान ले लोगन जुड़ही अइसे भी कहे जा सकथे। ये साल तो राखी बनाये बर कोण्डागांव जिला के बिहान दीदी मन बने भिड़े हाबे, 10 समूह के 20 महिला मन रोजे काम करत एक दिन म 500 राखी बनावत हाबे। ये राखी मनके कीमत 5 रूपिया ले लेके 50 रूपिया तक हावय। समूह के दीदी मन बांस, फूल, पत्ती  अउ रेशम डोरी ले आनी-बानी के राखी बनावत हावय जानके अभी ले कतकोन न आडर देके तको राखी बनवात हाबे। बिपत के बेरा अब लोगन मन कतकोन जिनिस के उपयोग अब अपने घर म बनाके करत हाबे, येकर ले सामान म भरोसा रिथे अउ दाम तको कमती परथे।

आगू पढ़व ... 

राखी कब है, राखी डिजाइन, राखी बनाना, राखी का गाना, रक्षाबंधन 2020, रक्षाबंधन के गीत

कोई टिप्पणी नहीं:

टिप्पणी पोस्ट करें

जोहार पहुना, मया राखे रहिबे...

किस्सा कहिनी

Contact Us

नाम

ईमेल *

संदेश *

कला-संस्कृति-साहित्य

follow us

T-Twitter | F-Facebook | Y-Youtube | Instagram | Pinterest
महतारी भाखा के उरउती खातिर भारत के समाचार पत्र के पंजीयक कार्यालय नई दिल्ली म पंजीकृत ' अंजोर ' छत्तीसगढ़ी मासिक पत्रिका के anjor.online वेब संस्करण म छत्तीसगढ़ी बुलेटिन, किस्सा-कहानी अउ कला-मनोरंजन संग सोशल मीडिया के चारी, कुछ आन भाखा के अनुवाद समोखे, छत्तीसगढ़ के जन भाखा म जन-जन तक बगराथन। जुड़व ये उदीम - anjore.cg@gmail.com

सियानी गोठ

भारत के समाचारपत्रों के पंजीयक का कार्यालय नई दिल्ली
पंजीकरण संख्या-: CHHCHH/2014/56285