Home News Contact About
'अंजोर ' छत्तीसगढ़ी मासिक पत्रिका वेब संस्करण ---- anjore.cg@gmail.com

छत्तीसगढ़ म भुंइया के बैपार अब नइ चलय, छत्तीसगढ़िया क्रांति सेना चलावथे महतारी भुइंया बचाव आंदोलन

रायपुर.30। छत्तीसगढ़ राज्य सरकार ह अपन राजस्व बढ़ाये खातिर अब इहां के सरकारी जमीन ल बेचे के जोंगे हाबे। जेकर जबर विरोध करत छत्तीसगढ़, छत्तीसगढ़ी अउ छत्तीसगढि़या मनके हक खातिर लड़ईया छत्तीसगढि़या क्रांति सेना ह प्रदेश भर म महतारी भुइंया बचाव आंदोलन चलावत हाबे। छत्तीसगढि़या क्रांति सेना राज्यम के जिला बिलासपुर, कोरबा, जांजगीर-चांपा, बलौदाबाजार-भाटापारा, महासमुंद सहित दुर्ग अउ रायपुर म तको विरोध दर्ज करावत छत्तीसगढ़ सरकार के राजस्व मंत्री जयसिंह अग्रवाल के पुतला फूंगिन। ये मउका म साफ-साफ ये चेतावनी दिए गीस के यदि सरकार हमर महतारी भुइंया ल परदेसिया मन ल बेचना बंद नी करिस तव छत्तीसगढ़िया क्रान्ति सेना येकर ले अऊ उग्र आंदोलन करहि। जेकर ज़िम्मेदारी सरकार के होही।

जानबा होवय के शासकीय भूमि के आवंटन अउ व्यवस्थापन के संबंध म राज्य शासन ह छत्तीसगढ़ राजस्व पुस्तक परिपत्र के खण्ड चार-एक अउ खण्ड चार-2 के प्रावधान म संशोधन करत अब कलेक्टर ल अधिकार प्रत्यायोजित करे हाबे। आरो मुताबिक 7500 वर्गफीट तक शासकीय भूमि के अधिकार कलेक्टर ल अउ 7500 वर्गफीट ले आगर के शासकीय भूमि के आवंटन अउ अतिक्रमित शासकीय भूमि के व्यवस्थापन के अधिकार राज्य सरकार ल होही।

सरकार के मुताबिक अब नगरीय क्षेत्र म आवास अउ व्यवसाय के साथ आन प्रयोजन बर तको अब सहजता ले मिल सकही शासकीय जमीन। माने अब सरकारी जमीन ल कोनो भी खरीद सकत हाबे, कुछ भी काम खातिर। येकर ले सरकार के राजकोष भले भरही फेर छत्तीसगढ़ी के भुंइया ह आन मनके हाथ म तको चल देही ये बात कोति तको सरकार ल बने चेत करे बर परही। छत्तीसगढ़ के माटी ले जूरे संस्था अउ लोगन मन सरकार के ये फैसला के विरोध करत सरकार ल काहत हावय के अपन फैसला ल वापस लेवय काबर के छत्तीसगढ़ के जल, जंगल अउ जमीन सिरिफ छत्तीसगढि़या मनके आए।

No comments:

Post a Comment

जोहार पहुना, मया राखे रहिबे...

किस्सा कहिनी

Contact Us

Name

Email *

Message *

कला-संस्कृति-साहित्य

follow us

T-Twitter | F-Facebook | Y-Youtube | Instagram | Pinterest
महतारी भाखा के उरउती खातिर भारत के समाचार पत्र के पंजीयक कार्यालय नई दिल्ली म पंजीकृत ' अंजोर ' छत्तीसगढ़ी मासिक पत्रिका के anjor.online वेब संस्करण म छत्तीसगढ़ी बुलेटिन, किस्सा-कहानी अउ कला-मनोरंजन संग सोशल मीडिया के चारी, कुछ आन भाखा के अनुवाद समोखे, छत्तीसगढ़ के जन भाखा म जन-जन तक बगराथन। जुड़व ये उदीम - anjore.cg@gmail.com

सियानी गोठ