Home News Contact About
'अंजोर ' छत्तीसगढ़ी मासिक पत्रिका वेब संस्करण ---- anjore.cg@gmail.com

केशकाल घाटी म रद्दा रेंगइया मन ले वन विभाग के अपील, जंगल के जीव ल झिन देवव भोजन

केशकाल.08। वनमंडल अधिकारी केशकाल कोति ले केशकाल घाटी के रद्दा रेंगइया मनला इत्तला करे गे हाबे के बेंदरा सहित आन जंगल के जीव मनला आन-तान भोजन झिन देवव। प्रधान मुख्य वनसंरक्षक (वन्य प्राणी) कोति ले मिले आरो के मुताबिक वन्य प्राणी मनला रद्दा रेंगइया मन खाद्य सामग्री या भोजन दे ले उंकर तबियत बिगड़े के संभावना होथे संगे-संग कतकोन हिंसक घटना तको होए के आशंका बने रिथे। छत्तीसगढ़ के जंगल म वनोपज के अकूत सम्पदा हावय अउ वन्य जीव हर मौसम अउ परिस्थिति म अपन भोजन के व्यवस्था स्वयं करे म सक्षम होथे। केशकाल वनमण्डलाधिकारी ह आगू बताइन के पाछू केउ बछर ले केशकाल घाटी म रहइया बेंदरा मन सड़क तिर आगे बइठे रिथ जेन ला अवइया-जवइया लोगन मन रोज कुछू न कुछू भोजन दे देथे। आदमी मनके आनी-बानी के भोजन ले बेंदरा मनके तबियत बिगड़े के संभावना रिथे इही सेती केशकाल वन मण्डल ह घाटी के कई मोड़ म बोर्ड लगवाके खाद्य सामग्री नइ देके अपील करे गे हाबे।

No comments:

Post a Comment

जोहार पहुना, मया राखे रहिबे...

किस्सा कहिनी

Contact Us

Name

Email *

Message *

कला-संस्कृति-साहित्य

follow us

T-Twitter | F-Facebook | Y-Youtube | Instagram | Pinterest
महतारी भाखा के उरउती खातिर भारत के समाचार पत्र के पंजीयक कार्यालय नई दिल्ली म पंजीकृत ' अंजोर ' छत्तीसगढ़ी मासिक पत्रिका के anjor.online वेब संस्करण म छत्तीसगढ़ी बुलेटिन, किस्सा-कहानी अउ कला-मनोरंजन संग सोशल मीडिया के चारी, कुछ आन भाखा के अनुवाद समोखे, छत्तीसगढ़ के जन भाखा म जन-जन तक बगराथन। जुड़व ये उदीम - anjore.cg@gmail.com

सियानी गोठ